गीता प्रेस को शांति पुरस्कार देने पर अल्पसंख्यक कांग्रेस हापुड़ के पदाधिकारियों ने डीएम को दिया ज्ञापन

87 Views

भारत रत्न बाबा साहेब अंबेडकर जी पर जातिगत टिप्पणीयां करने वाले प्रकाशन गीता प्रेस को गाँधी शांति पुरस्कार देना निंदनीय – हसन आतिफ ज़िला चेयरमैन अल्पसंख्यक कांग्रेस

हापुड ज़िला चेयरमैन हसन आतिफ ने बताया कि केंद्र सरकार ने गीता प्रेस प्रकाशन को वर्ष 2021 का गाँधी शांति पुरस्कार देने का निर्णय लिया है। गौरतलब है कि, गीता प्रेस प्रकाशन से संबद्ध पत्रिका ‘कल्याण’ में बाबा साहब अंबेडकर जी पर जातिगत टिप्पणी करते हुए लिखा था कि ‘स्वयं हीनवर्ण (निचली जाति) के होते हुए उन्होंने बूढ़ापे में एक ब्राह्मण महिला से शादी की और हिंदू कोड बिल पेश किया । हिंदू कोड बिल हिंदू संस्कृति के विनाश का कारण है। हम गीता प्रेस के आचरण का विरोध कर रहे हैं।

डॉ० ख़ालिद मुहम्मद खान प्रदेश उपाध्यक्ष व प्रवक्ता  ने बताया कि बहुत से अवसरों पर गीता प्रकाशन से ऐसी ही जातिगत टिप्पणियों वाले विचार प्रकाशित किये थे जो संविधान प्रदत्त समानता की मूल भावना के विपरीत हैं। इसलिय आज पूरे प्रदेश में अल्पसंख्यक कांग्रेस जिलाधिकारी के माध्यम से महामहिम को ज्ञापन दे रही है।

अरुण वर्मा ने कहा कि हम महामहिम से निवेदन करते हैं कि बाबा साहब को अपमानित करने और संविधान के मूल्यों के विपरीत आचरण करने वाले प्रकाशन को गाँधी शांति पुरस्कार देने के सरकार के निर्णय पर अपनी आपत्ति के साथ हस्तक्षेप करें। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष एस टी नरेश भाटी, दवेंद्र , जस्सा सिंह, खुशनूद अहमद, कलाम , गुलफाम टीटू आदि लोग उपस्थित थे।

Leave a Comment

You May Like This