इंटर का पाठ्यक्रम और पैटर्न बदला, नहीं रखे जाएंगे एक भाषा के दो पेपर*

Bharat Darpan updates
133 Views

प्रभु सिंह कुणाल

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने इंटर के पाठ्यक्रम और पैटर्न को बदल दिया है। सत्र 2019-21 से यह पैटर्न लागू होगा। बोर्ड अध्यक्ष ने आनंद किशोर ने बताया कि इंटर की परीक्षा में वर्तमान में एक ही भाषा को दो-दो पेपर रखने का विकल्प है। एक 50 अंक एवं एक 100 अंक। इसे सरल बनाने के लिए एक उपसमिति का गठन किया गया था।

इस समिति ने देश के अन्य राज्यों के बोर्ड जैसे उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ सीबीएसई के द्वारा लागू विषय योजना का अध्ययन किया। विचार के बाद निर्णय लिया गया कि सीबीएसई पैटर्न पर विषय योजना 11वीं व 12वीं कक्षा के लिए बनाई जाएंगी।

अब ये होगा विषय पैटर्न
अनिवार्य विषय-
विषय संख्या 1- हिंदी अथवा अंग्रेजी
विषय संख्या 2-हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू, मैथिली, संस्कृत, प्राकृत, मगही, भोजपुरी, अरबी, पर्सियन, पाली एवं बंगला में से कोई एक जो पहले विषय के रूप में न लिया गया हो।
ऐच्छिक विषय- कला, वाणिज्. एवं विज्ञान तथा व्यवसायिक संकाय के तीन विषय
अतिरिक्त विषय -विषय संख्या 2 के विषयों में से कोई एक या कला, वाणिज्य विज्ञान अथवा व्यवसायिक संकाय का कोई एक विषय चुन सकेगा।

इसके अलावा यह भी बदलाव किया गया है कि अगर किसी छात्र ने कुल छह विषयों का चयन किया है, एवं वह पांच में से किसी एक विषय में फेल है तो वह विषय छठे विषय के अंक से परिवर्तित कर दिया जाएगा, शर्त यह है कि वह हिंदी या अंग्रेजी में पास हो।

वैसे अभ्यर्थी जिन्होंने छठे विषय का चयन किया है सभी छह विषयों में पास है तो पास प्रतिशत की गणना नामांकन लेनेवाले विश्वविद्यालय या नियोजक के द्वारा निर्धारित अर्हता के अनुरुप होगा।

City News