आज 23 10 2019 को मगध की अस्मिता के साथ खिलवाड़ कर गैर संवैधानिक तरीकों से बिना कोई मानक और मापदंड के मगध रत्न पुरस्कार आयोजन पर कार्रवाई की मांग की गई

Bharat Darpan updates
342 Views

 

संवाददाता भारत दर्पण अवनीश

गया, के वजीरगंज के निवासी के द्वारा जिला प्रशासन को पत्र लिखकर गया के कुछ राजनीतिक एवं व्यवसाय लोगों द्वारा वर्णवाल प्रोपराइटर के बैनर तले मगध रतन पुरस्कार वितरण का आयोजन किया जा रहा है ।जो मेरे अनुकूल मगध के गौरव और अस्मिता के साथ खिलवाड़ और मजाक है। उन्होंने जिला अधिकारी महोदय से मगध की इतिहास गौरव कालीन रहा है ।यह गौतम बुद्ध और सम्राट अशोक की भूमि रही है। मगध धार्मिक राजनैतिक एवं शैक्षणिक दृष्टिकोण से पूरे विश्व पटल पर अपनी पहचान रखता है फिर भी इसकी बगैर चिंता किए हुए तथा बगैर सरकारी अनुमति के मगध के नाम पर पुरस्कार बांटना कहां तक उचित है ।आज गया में मगध रतन के नाम से जिन लोगों को नवाजा जा रहा है। क्या वह सचमुच मगध रत्न के हकदार हैं। या इसकी उपलब्धियों की जानकारी बिहार सरकार या भारत सरकार को है ।अगर नहीं है तो मगध के अपमान करने वाले लोगों पर उचित कार्रवाई होनी चाहिए। मगध क्षेत्र के सभी जिलों तक बिना अपनी पहचान बनाए बिना किसी मानक और मापदंड के 101 लोगों को मगध रत्न देना सरासर गलत है। महेश कुमार सुमन ने कहा कि मैं इसका विरोध करता हूं। यहां तक सूचना मिल रही है। कि जिन लोगों को मगध रत्न पुरस्कार दिया जा रहा है। उससे ₹2100 भी लिया गया है। यह पुरस्कार के नाम पर व्यापार किया जा रहा है। एवं मगध की अस्मिता के साथ खिलवाड़ करने वाले लोगों की गहन जांच कर उचित कार्रवाई करने की कृपा करें ताकि आगे से इस तरह को सरकार के बगैर अनुमति के कोई बिहार रत्न पुरस्कार बांटने की सोच उत्पन्न न करें

City News